श्री दूधेश्वर नाथ मंदिर में हुआ कन्या पुजन एव यज्ञ*

श्री दूधेश्वर नाथ मंदिर में हुआ कन्या पुजन एव यज्ञ

(DIN) गाजियाबाद 7 सितंबर 2019 स्थित श्री दूधेश्वर नाथ मंदिर में हर वर्ष कि भाति नवरात्रि के अवसर पर मंदिर के श्रीमंहत नारायण जी महाराज के आज्ञानुसार दुधेश्वर विद्यापीठ के आचार्य तोयराज उपाध्याय एवं विद्यार्थियों द्वारा मंत्रोच्चारण के साथ अष्टमी को रात्री मे यज्ञ हवन किया गया अष्टमी ओर नवमी तिथि के दिन माता गौरी ओर सिद्धियात्री माता कि पुजा कि गई । ऐसा माना जाता है इन दोनों दिनों में कन्या पूजन का विशेष होता है इन दिनों में घर घर मैं कन्या पूजन की जाती है जिसमें कन्या को नो देवियों का रूप मानकर उनकी पुजा कि जाती है इसी तरह मंदिर मे सभी साधू संतो द्वारा कन्या को भोजन कराया गया। जिसने कन्या को वस्त्र धन सिंगार की वस्तुएं चुंनी आदि भेंट की जाती हे।
इस अवसर मीडिया प्रभारी एस आर सुथार ने बताया कि नवरात्रि की अवसर पर कुछ लोग नवरात्रा पर दिन में कन्या को भोजन करवाते हैं इसकी वजह से यह देवी भागवत पुराण में कहां गया है कि कन्या पूजन से माता प्रसन्न होती है और सभी भक्तों को मनोकामनाएं पुर्ण करती दी है अष्टमी नवमी और अन्य दिनो में कन्या पूजन किन किन बातों का ध्यान रखना जरुरी है इसमें कन्या पूजन रखना जरुरी होता है जिसमें कन्या के साथ खुद को भी भोजन करना जरुरी होता है नवरात्रा के दौरान कन्या पूजन मे 9 कन्या का पूज सबसे उतम माना जाता है वैसे आप चाहें तो हर दिन मे एक कन्या का पुजन भी कर सकते है। ऐसा करने मे कठिनाई हो तो कम से कम 2 कन्या को भोजन करना चाहिए कन्याओ के साथ साथ एक बालक को भी भोजन कराना चाहिए बालक बटुक भैरव के रूप में पूजा जाता है देवी की सेवा के लिए इस अवसर पर स्वामी शिवानंद गिरिजी महाराज, स्वामी गिरिशानंद गिरि जी महाराज ,शंकर झा ,गौरव शर्मा, आसुतोष, आदि सैकड़ों लोग शामिल हुऐ।